कृषि संकाय


इस संकाय के अंतर्गत उन्नत फसल, बीज संवर्धन, सिचाई तकनीकि, पौध संरक्षण पर केन्द्रित पाठ्यक्रमों का संचालन किया जा रहा है । गोबर खाद, जैविक खेती और रसायनिक खेती से मुक्त विकल्पों के लिए विद्यार्थियों को कृषि विज्ञान के आधुनिक अनुसंधान के लिए प्रेरित किए जाने की योजना है ।  इन विभागों में स्नातक प्रतिष्ठा (ऑनर्स), स्नातकोत्तर, प्रमाण-पत्र, पत्रोपाधि, एम.फिल और  शोध आदि पाठ्यक्रम संचालित होंगे। विश्वविद्यालय से किसी भी पाठ्यक्रम को पूर्ण करने वाले छात्र को भाषा, संगणक,  योग, समाज सेवा एवं भारतीय जीवन मूल्यों की जानकारी देने की योजना  है। विश्वविद्यालय स्नातक से लेकर शोध के स्तर तक के विभिन्न समसामायिक एवं भारतीय ज्ञान-विज्ञान को प्रदर्शित करने वाले पाठ्यक्रमों को भी इस संकाय के अंतर्गत समाहित करेगा।

कृषि विभाग


संचालित पाठ्यक्रम

पत्रोपाधि

  • जैविक कृषि एवं प्रौद्योगिकी प्रबंधन

प्रमाण पत्र

  • जैविक कृषि एवं प्रौद्योगिकी प्रबंधन
  • गो सम्पदा विकास प्रशिक्षण 

प्रशिक्षण पाठ्यक्रम

  • जैविक कृषि
  • पंचगव्य