वाणिज्य एवं प्रबंधन संकाय


इस संकाय के अंतर्गत वाणिज्य और प्रबंधन विभागों का संचालन किया जा रहा है । इन विभागों में प्रमाण-पत्र, स्नातक प्रतिष्ठा (ऑनर्स), स्नातकोत्तर, एम.फिल एवं शोध आदि के पाठ्यक्रम संचालित हैं। विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने वाले छात्र को भाषा, संगणक, योग, समाज सेवा एवं भारतीय जीवन मूल्यों की जानकारी दिये जाने की योजना है। विश्वविद्यालय स्नातक से लेकर शोध स्तर तक के विभिन्न समसामायिक एवं भारतीय वाणिज्य ज्ञान को प्रदर्शित करने वाले पाठ्यक्रमों को भी इस संकाय के अंतर्गत समाहित किया जाएगा।

विभाग का परिचय:

प्राचीन भारतीय संस्कृत साहित्य इस बात को प्रमाणित करता है कि विश्व में वाणिज्य एवं प्रबंधन भारतीय संस्कृति की देन है अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय में वाणिज्य एवं प्रबंधन विभाग की स्थापना कर इस विचार को आगे बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है कि वाणिज्य एवं प्रबंधन विषय का हिंदी भाषा में उच्च स्तर का साहित्य उपलब्ध है। जो हमारे भारतीय परिवेश के अनुकूल है तथा वर्तमान वैश्विक परिवेश मे सार्थक सिद्ध हो रहा है।

हिंदी भाषा के माध्यम से वाणिज्य एवं प्रबंधन को न वीन दृष्टि एवं दिशा देना एक महत्वपूर्ण कार्य है जिसका दायित्व अटल बिहारी वाजपेयी हिंदी विश्वविद्यालय ने लिया है। वाणिज्य एवं प्रबंधन में हिंदी भाषा के साथ उसके सैद्धांतिक एवं व्यवहारिक स्वरूप् के निरूपण के लिए इस विभाग द्वारा विभिन्न नूतन पाठ्यक्रम उपलब्ध कराये गये हैं।

मुख्य उद्देश्य:

  1. वाणिज्य एवं प्रबंधन में प्राचीन भारतीय ज्ञान से विद्यार्थियों को परिचित करना।
  2. वाणिज्य एवं प्रबंधन को भारतीय परिप्रेक्ष्य में सुदृढ़ बनाना।
  3. वाणिज्य एवं प्रबंधन के भारतीय दृष्टिकोण से विश्व को परिचित करना।
  4. हिंदी माध्यम से वाणिज्य एवं प्रबंधन में रोजगार अवसरों में व्यापकता के प्रयास करना।

संचालित पाठ्यक्रम:

 वाणिज्य विभाग

  • स्नातक वाणिज्य प्रतिष्ठा पाठ्यक्रम
  • स्नातकोत्तर वाणिज्य पाठ्यक्रम 
  • स्नातकोत्तर व्यवसाय प्रशासन पाठ्यक्रम
  • विद्यानिधि पाठ्यक्रम
  • विद्यावारिधि पाठ्यक्रम

 प्रबंधन विभाग

  • एम.बी.ए. (व्यावसायिक अर्थशास्त्र) स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम
  • एम.बी.ए. (संभारतंत्र एवं आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन) स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम
  • विद्यानिधि पाठ्यक्रम
  • विद्यावारिधि पाठ्यक्रम

रोजगार की संभावनाएं:

  1.  शिक्षण संस्थाओं में अध्यापन कार्य के अवसर।
  2. कंपनियों में रोजगार के अवसर।
  3. बैंक एवं बीमा क्षेत्र में रोजगार के अवसर।
  4. ग्राहक सेवा प्रतिनिधि एवं विपणन प्रतिनिधि के तौर पर विदेशी कंपनियों में कार्य के अवसर।
  5. विभिन्न क्षेत्रों में स्वरोजगार के अवसर।


विभागाध्यक्ष:


डॉ. अनिल शिवानी
(बी.कॉम.एम.कॉम.एलएल.बी. पीएच.डी)
अधिष्ठाता (वाणिज्य एवं प्रबंधन विभाग)
प्रभारः- अधिष्ठाता,छात्र कल्याण, एन.सी.सी. प्रभारी, छात्रवृत्ति प्रभारी, लोग सेवा गारंटी, संगणक विभाग प्रभारी, अकादमी प्रभारी, ए.आई.ए.एच.ई.